Current Affairs For India & Rajasthan | Notes for Govt Job Exams

UNSC के नए गैर-स्थायी सदस्य

FavoriteLoadingAdd to favorites

हाल ही में पाकिस्तान, सोमालिया, डेनमार्क, ग्रीस और पनामा को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UN Security Council) के गैर-स्थायी सदस्य के रूप में चुना गया है, जिनका 2 वर्ष का कार्यकाल 1 जनवरी 2025 से 31 दिसंबर 2026 तक होगा।

UNSC में नए सदस्यों का चुनाव कैसे किया जाता है?

  • चुनाव प्रक्रिया और क्षेत्रीय समूह 
    • संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में अस्थायी सीटों के लिये चुनाव प्रक्रिया में क्षेत्रीय समूह उम्मीदवारों को नामित करते हैं। चार क्षेत्रीय समूह हैं।
    • नव निर्वाचित सदस्यअफ्रीकी समूह के लिये सोमालिया, एशिया-प्रशांत समूह के लिये पाकिस्तान, लैटिन अमेरिका और कैरिबियन समूह के लिये पनामा, पश्चिमी यूरोपीय एवं अन्य समूह के लिये डेनमार्क व ग्रीस हैं।
    • प्रत्येक क्षेत्रीय समूह आम तौर पर दो साल के कार्यकाल के लिये महासभा में प्रस्तुत करने के लिये उम्मीदवारों पर सहमत होता है।
    • इस प्रक्रिया का उद्देश्य सुरक्षा परिषद के भीतर क्षेत्रीय प्रतिनिधित्व सुनिश्चित करना है, जो वैश्विक भू-राजनीतिक विविधता और हितों को दर्शाता है।
  • वर्तमान और नए सदस्य: नए सदस्य मोजाम्बिक, जापान, इक्वाडोर, माल्टा और स्विटज़रलैंड जैसे निवर्तमान देशों की जगह लेंगे।
  • सुरक्षा परिषद की भूमिका और चुनौतियाँ: संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद अंतर्राष्ट्रीय शांति और सुरक्षा बनाए रखने में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाती है।
    • हालाँकि, इसके स्थायी सदस्यों की वीटो शक्ति के कारण इसकी प्रभावशीलता में बाधा आ सकती है।

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद क्या है?

  • संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद, संयुक्त राष्ट्र चार्टर के तहत 1945 में स्थापित, संयुक्त राष्ट्र के छह प्रमुख अंगों में से एक है।
  • UNSC में सदस्यों की संख्या 15 हैं: 5 स्थायी सदस्य (P5) और 10 गैर-स्थायी सदस्य 2 वर्ष की अवधि के लिये चुने जाते हैं।
    • 5 स्थायी सदस्य हैं: संयुक्त राज्य अमेरिका, रूसी संघ, फ्राँस, चीन और यूनाइटेड किंगडम।
    • ओपेनहेम के अंतर्राष्ट्रीय कानून के अनुसार: संयुक्त राष्ट्र, “द्वितीय विश्व युद्ध के बाद उनके महत्त्व के आधार पर पाँच राज्यों को सुरक्षा परिषद में स्थायी सदस्यता प्रदान की गई।”
  • सुरक्षा परिषद में भारत की भागीदारी 1950-51, 1967-68, 1972-73, 1977-78, 1984-85, 1991-92, 2011-12 और 2021-22 की अवधि के दौरान एक गैर-स्थायी सदस्य के रूप में रही है।

 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top