Current Affairs For India & Rajasthan | Notes for Govt Job Exams

हाई कोर्ट ने सरकारी डॉक्टर को दी चुनाव लड़ने की परमिशन, हारने के बाद भी कर सकेंगे डॉक्टरी

FavoriteLoadingAdd to favorites

राजस्थान हाई कोर्ट की जोधपुर पीठ ने एक सरकारी डॉक्टर को विधानसभा चुनाव लड़ने की अनुमति दे दी है। इसके बाद डूंगरपुर के सरकारी अस्पताल में डॉक्टर दीपक घोघरा भारतीय ट्राईबल पार्टी (बीटीपी) के टिकट पर डूंगरपुर विधानसभा सीट से चुनाव मैदान में उतर गए हैं। वह बीटीपी के प्रदेशाध्यक्ष वेलाराम घोघरा के बेटे हैं।

घोघरा ने हाई कोर्ट में याचिका दायर कर कहा था कि उन्हें चुनाव लड़ने की अनुमति दी जाए। इस पर जस्टिस पुष्पेन्द्र सिंह भाटी ने आदेश दिया कि घोघरा को विधानसभा चुनाव लड़ने के लिए चिकित्सा अधिकारी पद से रिलीव किया जाए। यह भी ध्यान रखा जाए कि यदि वह चुनाव हार जाते हैं तो उन्हें फिर चिकित्सा अधिकारी पद पर कार्य करने की अनुमति दी जाए।

Rajasthan Election 2023: कांग्रेस को लगा बड़ा झटका, सीएम गहलोत के विश्वस्त दाधीच हुए भाजपा में शामिल

यह भी पढ़ें

पढ़े-लिखे लोगों का राजनीति में आना बहुत जरूरी- घोघरा

घोघरा ने बताया कि मैं पिछले 10 साल से डूंगरपुर में कार्यरत हूं। स्थानीय लोग मुझे अच्छी तरह पहचानते हैं। पढ़े-लिखे लोगों का राजनीति में आना बहुत जरूरी है। जब मैंने राजनीति में आने का फैसला किया तो लोगों ने इसका स्वागत किया। यहां लोगों से मेरा व्यक्तिगत लगाव है। इसलिए मुझे पूरा विश्वास है कि मैं इस सीट पर जीत दर्ज करूंगा।

https://youtube.com/watch?v=jFGarLGlFxs%3Fenablejsapi%3D1%26origin%3Dhttps%253A%252F%252Fwww.jagran.com

प्रदेश में 25 नवंबर को मतदान

डूंगरपुर सीट पर घोघरा के अलावा कांग्रेस से गणेश घोघरा और भाजपा के टिकट पर बंशीलाल कटारा चुनाव लड़ रहे हैं। प्रदेश में 25 नवंबर को मतदान होगा और तीन दिसंबर को चुनाव परिणाम आएंगे। बता दें कि मध्य प्रदेश में राज्य प्रशासनिक सेवा की अधिकारी निशा बांगरे कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ना चाहती थीं। वह छतरपुर जिले में उप कलक्टर पद पर कार्यरत थीं। उन्होंने नौकरी से त्याग-पत्र दे दिया था।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top