Current Affairs For India & Rajasthan | Notes for Govt Job Exams

शुष्क अरल सागर

FavoriteLoadingAdd to favorites

एक हालिया अध्ययन से पता चला है कि अरल सागर के सूखने से अरलकम रेगिस्तान का निर्माण हुआ है, जिससे मध्य एशिया 7% अधिक धूलयुक्त हो गया है।

  • अरल सागरजो एक समय विश्व की चौथी सबसे बड़ी झील थी, 1960 के दशक में सोवियत मध्य एशिया में सूख गई, जिससे धूल और प्रदूषण में वृद्धि जैसे गंभीर पर्यावरणीय परिणाम सामने आए। इसके परिणामस्वरूप हवा की गुणवत्ता प्रभावित हो सकती है और समग्र मौसम पैटर्न बदल सकता है और अरल क्षेत्र में सतह पर हवा का दबाव बढ़ सकता है।
    • यह शीतकालीन साइबेरियाई तापमान को बढ़ा सकता है और ग्रीष्मकाल में मध्य एशियाई तापमान को कम कर सकता है।
    • धूल ग्लेशियरों के पिघलने की गति बढ़ा सकती है, जिससे क्षेत्र में जल संकट बढ़ सकता है।
  • अरल सागर को मध्य एशिया की दो महान नदियों – अमु दरिया (पामीर पर्वत से) और सीर दरिया (टीएन शान पर्वत श्रृंखला) से पानी मिलता था।
  • इसी प्रकार अन्य उदाहरण:
    • ईरान में उर्मिया झील और ईरान-अफगानिस्तान सीमा पर हामौन झील भी सिकुड़ गई हैं और धूल के मजबूत स्थानीय स्रोत बन गई हैं।

Aral_Sea

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top