Current Affairs For India & Rajasthan | Notes for Govt Job Exams

रक्षा मंत्री श्री राजनाथ सिंह ने दुनिया के सबसे ऊंचे युद्धक्षेत्र सियाचिन का दौरा किया; सुरक्षा स्थिति का जमीनी स्तर पर आकलन करता है

FavoriteLoadingAdd to favorites

विपरीत मौसम और कठिन इलाके में वीरता और दृढ़ संकल्प के साथ देश की रक्षा करने के लिए सैनिकों की सराहना की

“बर्फीले सियाचिन ग्लेशियर में हमारे सैनिकों की बहादुरी और दृढ़ इच्छाशक्ति के कार्य हमेशा भावी पीढ़ियों को प्रेरित करेंगे”

रक्षा मंत्री श्री राजनाथ सिंह ने 22 अप्रैल, 2024 को सुरक्षा स्थिति का प्रत्यक्ष आकलन करने के लिए दुनिया के सबसे ऊंचे युद्धक्षेत्र सियाचिन का दौरा किया। उन्होंने विषम मौसम और कठिन इलाके की परिस्थितियों में तैनात सैनिकों से भी बातचीत की। रक्षा मंत्री के साथ थल सेनाध्यक्ष जनरल मनोज पांडे भी थे; जनरल ऑफिसर कमांडिंग-इन-चीफ, उत्तरी कमान लेफ्टिनेंट जनरल एमवी सुचिन्द्र कुमार; और जनरल ऑफिसर कमांडिंग, 14 कोर लेफ्टिनेंट जनरल रशिम बाली।

हवाई टोही के बाद, रक्षा मंत्री 15,100 फीट की ऊंचाई पर एक अग्रिम चौकी पर उतरे, और उन्हें सियाचिन ग्लेशियर में परिचालन तैयारी और प्रचलित सुरक्षा स्थिति के बारे में विस्तृत जानकारी दी गई। उन्होंने जमीनी स्तर पर कमांडरों के साथ परिचालन चुनौतियों से जुड़े पहलुओं पर भी चर्चा की।

श्री राजनाथ सिंह ने सैनिकों को संबोधित करते हुए विषम परिस्थितियों में वीरता और दृढ़ संकल्प के साथ मातृभूमि की रक्षा के पुण्य पथ पर चलने के लिए उनकी सराहना की। उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि राष्ट्र सशस्त्र बल कर्मियों का सदैव ऋणी रहेगा, क्योंकि उनके बलिदान के कारण हर नागरिक सुरक्षित महसूस करता है। “हम शांतिपूर्ण जीवन जी रहे हैं क्योंकि हमें आश्वासन है कि हमारे बहादुर सैनिक सीमाओं पर दृढ़ता से खड़े हैं। आने वाले समय में, जब राष्ट्रीय सुरक्षा का इतिहास लिखा जाएगा, तो बर्फीले ठंडे ग्लेशियर में हमारे सैनिकों की बहादुरी और दृढ़ इच्छाशक्ति के कार्यों को गर्व के साथ याद किया जाएगा। यह भावी पीढ़ियों के लिए सदैव प्रेरणास्रोत रहेगा।”

रक्षा मंत्री ने सियाचिन को कोई सामान्य भूमि नहीं, बल्कि भारत की संप्रभुता और दृढ़ संकल्प का प्रतीक बताया। उन्होंने कहा कि जैसे दिल्ली भारत की राष्ट्रीय राजधानी है, मुंबई वित्तीय राजधानी है और बेंगलुरु प्रौद्योगिकी राजधानी है; सियाचिन साहस, धैर्य और दृढ़ संकल्प की राजधानी है।

देश ने हाल ही में ऑपरेशन मेघदूत की सफलता की 40वीं वर्षगांठ मनाई। श्री राजनाथ सिंह ने 13 अप्रैल, 1984 को सियाचिन में भारतीय सेना द्वारा शुरू किये गये ऑपरेशन को देश के सैन्य इतिहास का एक स्वर्णिम अध्याय बताया। उन्होंने कहा, ”ऑपरेशन मेघदूत की सफलता हम सभी के लिए गर्व की बात है।”

इस अवसर पर, रक्षा मंत्री ने मातृभूमि की सेवा में सर्वोच्च बलिदान देने वाले बहादुरों को सच्ची श्रद्धांजलि के रूप में सियाचिन युद्ध स्मारक पर पुष्पांजलि अर्पित की।

स्मरणीय है कि श्री राजनाथ सिंह ने 24 मार्च, 2024 को लेह का दौरा किया था और सैनिकों के साथ होली मनाई थी। उनका सियाचिन जाने का कार्यक्रम था, लेकिन प्रतिकूल मौसम के कारण इसे स्थगित कर दिया गया। लेह से, रक्षा मंत्री ने सियाचिन में तैनात सैनिकों से फोन पर बात की और उन्हें बताया कि वह जल्द ही दुनिया के सबसे ऊंचे युद्धक्षेत्र का दौरा करेंगे और उनके साथ बातचीत करेंगे। इस प्रकार आज की यात्रा के साथ, श्री राजनाथ सिंह ने अपने व्यस्त कार्यक्रम के बावजूद अपना वादा पूरा किया।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top