Current Affairs For India & Rajasthan | Notes for Govt Job Exams

यूपीएससी की तैयारी कैसे करें?

FavoriteLoadingAdd to favorites
IAS एग्जाम कंडक्टिंग बॉडी यूपीएससी
एग्जाम मोड ऑफलाइन
आयुसीमा (21 से 32 साल)
योग्यता किसी भी स्ट्रीम से ग्रेजुएशन।
एग्जाम पैटर्न प्रीलिम्स (MCQs), मेन्स (डिस्क्रिप्टिव पेपर)

यूपीएससी की तैयारी कैसे करें?

यूपीएससी की तैयारी में सबसे महत्वपूर्ण उसका सिलेबस है। बेसिक क्लियर होने के बाद ही अभ्यार्थी सही रणनीति बना सकते हैं। यूपीएससी प्रीलिम्स और मेन्स एग्जाम की तैयारी में फर्क होता है, क्योंकि प्रीलिम्स में 2 पेपर होते हैं और मेंस में 9 पेपर होते हैं। हर पेपर में कई सब्जेक्ट्स पढ़ने होते हैं और फिर उन सब्जेक्ट्स के हिसाब से तैयारी करनी होती है। यूपीएससी की तैयारी कैसे करें के बारे में हम यहां विस्तार से जानेंगे।

कोचिंग के बिना यूपीएससी की तैयारी कैसे करें?

हमारे देश में आईएएस परीक्षा काफी महत्वपूर्ण परीक्षा मानी जाती है, इसके लिए अक्सर छात्र कोचिंग करना पसंद करते है। कोचिंग करने से उनको लगता है कि वे आसानी से इस परीक्षा को पास कर लेंगे, लेकिन बिना कोचिंग के सफलता पाने के लिए ये टिप्स जरूर अपनाने चाहिएः

  • सिलेबस को जानें- किसी भी एग्जाम को क्लियर करने के लिए उसका सिलेबस सही से समझना आवश्यक है। सिलेबस की सही समझ आपकी सफलता की राह आसान कर सकती है, क्योंकि सिलेबस समझने के बाद कैंडिडेट्स को यह पता चल जाता है कि उसे क्या पढ़ना है और कितना पढ़ना जो उसके एग्जाम में फायदेमंद होगा।
  • टाइम मैनेजमेंट पर फोकस- टाइम मैनेंजमेंट जिंदगी के हर पड़ाव पर महत्वपूर्ण है। किसी भी काम के लिए एक समय निर्धारित करना और उसे अपने निर्धारित समय पूरा करना भी जरूरी है, यूपीएससी एग्जाम के लिए टाइम मैनेज करना बहुत जरूरी है।
  • करंट अफेयर्स – यूपीएससी एग्जाम में करंट अफेयर्स बहुत इंपोर्टेंट है, क्योंकि 3-4 पेपर जनरल नाॅलेज के होते हैं।
  • न्यूजपेपर जरूर पढ़ें– न्यूजपेपर पढ़ने की आदत कैंडिडेट्स की एग्जाम की तैयारी के अलावा इंटरव्यू की तैयारी को भी बेहतर बनाती है।
  • बीते वर्षों के प्रश्नपत्र साॅल्व करें– बीते वर्षों के प्रश्न पत्र देखकर एग्जाम का पैटर्न और आने वाले एग्जाम की समझ विकसित होती है।
  • माॅक टेस्ट दें– ज्यादा से ज्यादा माॅक टेस्ट देना किसी भी एग्जाम को क्लियर करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। माॅक टेस्ट देने से स्पीड और एक्योरिसी बढ़ने के साथ ही अपनी तैयारी का भी पता चलता है।
  • एनसीईआरटी पुस्तकें पढ़ें- एनसीईआरटी पुस्तकें यूपीएससी के लिए बहुत उपयोगी होती हैं। कई बार टीचर और सिविल सर्विस एग्जाम क्लियर करने वाले भी एनसीईआरटी पुस्तकें पढ़ने की सलाह देते हैं।
  • डिटेल नोट्स तैयार करें- यूपीएससी के एग्जाम में कुछ सब्जेक्ट्स में काफी लिखना होता है, इसलिए डिटेल नोट्स तैयार करना भी आवश्यक है।
  • अभ्यास टेस्ट सीरीज देखें– प्रैक्टिस टेस्ट सीरीज की समझ और लगातार अभ्यास करने से एग्जाम को क्लियर करने में आसानी हो जाती है।
  • रिवीजन जरूर करें- किसी भी एग्जाम की तैयारी के लिए 1 से 2 साल का समय काफी माना जाता है, लेकिन एग्जाम से कुछ दिन पहले रिवीजन करना जरूरी है। रिवीजन करने से कैंडिडेट्स भूले हुए टाॅपिक्स भी ध्यान कर लेते हैं और अपनी तैयारी को औरों से बेहतर कर लेते हैं।
  • घर बैठे यूपीएससी की तैयारी कैसे करें?

    वैसे तो किसी भी परीक्षा के लिए कोई समय निर्धारण नहीं किया जा सकता, लेकिन यूपीएससी परीक्षा की तैयारी के लिए छात्र 18 महीने की अथक परिश्रम से उस समय सीमा तक पहुंच सकते हैं। ऐसे में अगर आप घर बैठे बैठे यूपीएससी की तैयारी करना चाहते हैं तो नीचे दिए गए स्टेप्स को फाॅलो कर सकते हैंः

    • सबसे पहले परीक्षा के सिलेबस को समझें।
    • शुरू में थोड़ा पढ़ें और बाद में ज्यादा टाइम दें।
    • एक व्यवस्थित शेड्यूल/टाइमटेबल बनाएं।
    • करेंट अफेयर्स के लिए मासिक पत्रिकाएँ पढ़ें।
    • आईएएस के लिए समाचार पत्र पढ़ें।
    • सरकारी प्रकाशन पढ़ें।
    • एनसीईआरटी पुस्तकें पढ़ें।

    10वीं के बाद यूपीएससी की तैयारी कैसे करें?

    10 वीं के बाद यूपीएससी परीक्षा नहीं दी जा सकती, लेकिन आप नीचे दी गईं टिप्स के द्वारा 10 वीं से ही आईएएस बनने की तैयारी शुरू कर सकते हैंः

    • सबसे पहले एग्जाम की पूरी जानकारी होना जरूरी है।
    • एग्जाम में आने वाले सिलेबस को समझें।
    • रणनीति और अध्ययन की सामग्री को इकट्ठा करें।
    • एकाग्रता के साथ पढ़ाई करें।
    • पढ़ाई के साथ ही साथ लेखन करना भी जरूरी है।
    • बार-बार मोक टेस्ट दें।
    • रोज़ाना न्यूज़ पेपर और मैगज़ीन पढ़ें।

    12वीं के बाद आईएएस की तैयारी कैसे करें?

    अगर आप सिविल सर्विस एग्जाम के लिए आवेदन करना चाहते हैं तो आपके पास कम से कम बैचलर की डिग्री होना आवश्यक है, लेकिन इसकी तैयारी भी 12वीं के बाद शुरू की जा सकती है। 12वीं के बाद आईएएस की तैयारी इस तरह कर सकते हैंः

    • सबसे पहले सही स्ट्रेटजी बनाना बहुत ही जरूरी है।
    • ग्रेजुएशन में अपने पसंद के विषय का चयन करें।
    • यूपीएससी का सिलेबस अच्छी तरह से देखें।
    • टाइम टेबल बनाएं।
    • करंट अफेयर्स और न्यूजपेपर पर फोकस करें।
    • हर वर्ष आने वाले बजट का एनालिसिस करें।
    • NCERT की किताबों का अध्ययन शुरू करें।
    • 4-5-6 घंटे तो रोजाना पढ़ाई आवश्यक है।
    • लिखना शुरू करें।
    • शाॅर्ट नोट्स बनाएं।
    • माॅक टेस्ट दें ,
    • यूपीएससी के बीते वर्षों के पेपर साॅल्व करें।
    • इकोनॉमिक्स के एग्जाम से पहले जरूर अपनाएं ये टिप्स

      पढ़ाई के दौरान टॉपिक को लिखकर उन्‍हें याद करें, जब भी मौका मिले उन्‍हें दोहराएं। साथ ही संख्यात्मक प्रश्नों और रेखाचित्रों का भी अभ्यास करें, और साफ़ कार्य करने की आदत डालें।
      परीक्षा में पूछे जाने वाले प्रश्‍नों का अनुभव करने के लिए स्कूल की सभी प्रीबोर्ड परीक्षा में अवश्य भाग ले, एनसीईआरटी की पुस्तकें जरुर पढ़ें।
      दोनों इकोनॉमिक्स मैक्रो और माइक्रो दोनों में कई तरह के डाइग्राम होते है, इसलिए आपको इन डाइग्राम को बनाने का अभ्यास होना चाहिए, अगर आप पेपर में अच्छे डाइग्राम बनाते है तो आपको अंक मिलते है लेकिन अगर आपके डाइग्राम सही नहीं है तो आपको किसी भी तरह अंको का लाभ नहीं होता है।
      अर्थशास्त्र के पेपर के कॉन्सेप्ट्स और टर्म में बहुत अंतर होता है। इसलिए इनमें अंतर समझने के लिए आपको तैयारी की जरुरत है। साथ ही इसे सारणीबद्ध रूप से प्रस्तुत करना भी आपको आना चाहिए। तभी आप पेपर में अच्छे अंक प्राप्त कर सकेंगे।
      पिछले साल के पेपर्स को भी सॉल्व करें इससे आपको परीक्षा का क्या पैटर्न है, पता चलता है और साथ ही आप यह भी समझ पाते है की परीक्षक आपसे क्या पूछना चाहता है।
      यूपीएससी की तैयारी के लिए स्टडी मटेरियल

      यूपीएससी के लिए स्टडी मटेरियल भी जानना बेहद ज़रूरी है जो यूपीएससी प्री और मैन्स परीक्षा के लिए मददगार साबित हो सकती है। स्टडी मटेरियल से संबंधित जानकारी नीचे दी गई है :

      दूसरी एआरसी रिपोर्ट (एआरसी रिपोर्ट पर अधिक पढ़ने के लिए, लिंक किए गए लेख को देखें।)
      आर्थिक सर्वेक्षण (नवीनतम)
      बजट (नवीनतम)
      वित्त आयोग की रिपोर्ट (नवीनतम)
      केंद्रीय मंत्रालयों द्वारा वार्षिक रिपोर्ट
      करंट अफेयर्स
      द हिंदू अख़बार
      योजना पत्रिका
      प्रेस सूचना ब्यूरो विज्ञप्ति
      नीति आयोग एक्शन एजेंडा।

    • UPSC प्रीलिम्स के लिए एग्जाम पैटर्न क्या है?

      यूपीएससी प्रीलिम्स के लिए पैटर्न इस प्रकार हैः

      पेपर GS 1: भारतीय इतिहास, अर्थशास्त्र, भारत और विश्व का भूगोल, विज्ञान और प्रौद्योगिकी, भारतीय राजनीति, समसामयिक मामले और पर्यावरण पर आधारित।GS 2 : रीजनिंग, एप्टीट्यूड और क्वांटिटेटिव पर आधारित।
      पेपर की लैंग्वेज इंग्लिश, हिंदी
      एग्जाम ड्यूरेशन दोनों पेपर के लिए 4 घंटे का समय। (प्रत्येक पेपर 2 घंटा)
      क्वैश्चंस जीएस पेपर 1 के लिए 100 क्वैश्चन होते हैं। जीएस पेपर 2 के लिए 80 क्वैश्चन होते हैं।
      मार्क्स 400 (प्रत्येक पेपर के लिए 200 अंक निर्धारित हैं।)
      क्वालीफाइंग पेपर 2 के लिए 33 प्रतिशत

       

       

      UPSC मेंस के लिए एग्जाम पैटर्न क्या है?

      यूपीएससी मेंस के लिए पैटर्न इस प्रकार हैः

      पेपर 9
      पेपर लैंग्वेज इंग्लिश, हिंदी, (डिस्क्रिप्टिव पेपर: कैंडिडेट भारतीय संविधान की अनुसूची 8 में उल्लिखित 22 भाषाओं में भाषा के पेपर देते हैं।
      सब्जेक्ट अनिवार्य भारतीय भाषा इंग्लिश निबंध जीएस पेपर I जीएस पेपर II जीएस पेपर III जीएस पेपर IV ऑप्शनल सब्जेक्ट I ऑप्शनल सब्जेक्टII
      एग्जाम ड्यूरेशन प्रत्येक पेपर के लिए 3 घंटे।
      अंक  300 अंक, जीएस और ऑप्शनल पेपर के लिए 250 अंक निर्धारित हैं।
      अधिकतम अंक 1750 अंक।

      यूपीएससी के लिए योग्यता क्या है?

      यूपीएससी के लिए योग्यता इस प्रकार हैः

      • कैंडिडेट्स के पास किसी भी मान्यता प्राप्त काॅलेज या यूनिवर्सिटी से किसी भी स्ट्रीम में बैचलर डिग्री होनी चाहिए।
      • कैंडिडेट्स जो लास्ट ईयर में हैं और परिणाम की प्रतीक्षा कर रहे हैं, वे प्रीलिम्स एग्ज़ाम के लिए आवेदन कर सकते हैं।
      • सिविल सेवा मुख्य परीक्षा के लिए उपस्थित होने के लिए बैचलर डिग्री पास करने का प्रूफ होना चाहिए।
      • जनरल और EWS के पास 6 अटेम्प्ट्स होते हैं, OBC के पास 9, SC/ST के पास (आयु सीमा तक)
      • IAS परीक्षा में बैठने के लिए न्यूनतम आयु सीमा 21 वर्ष है, वहीं अधिकतम आयु सीमा 32 वर्ष है।

      यूपीएससी के चरण

      1. प्रीलिम्स
      2. मेन परीक्षा
      3. इंटरव्यू (साक्षात्कार)
      • प्रीलिम्स – यह परीक्षा प्रारंभिक परीक्षा है जिसमें 2 पेपर होते हैं। दोनों पेपर में सभी प्रश्न मल्टीपल चॉइस टाइप के होते हैं।
        • पेपर 1 में राजनीति शास्त्र, जनरल साइंस अर्थ शास्त्र और जनरल स्टडीज (ऐतिहासिक, भूगोल ) साथ में करंट अफेयर्स जैसे सवालों का समावेश होता है।
        • पेपर 2 में क्वांटिटेटिव एप्टिट्यूड के आधार पर सवाल आते हैं। पेपर में पास होने के लिए कम से कम 33% अंक होने जरूरी है इसका क्वालीफाई टाइप का नेचर होता है। यह परीक्षा पास करने के उपरांत ही हम मुख्य परीक्षा में भाग ले सकते हैं।
      • मेन परीक्षा – यह परीक्षा मुख्य परीक्षा है। आरंभिक परीक्षा में पास होने के बाद मेन परीक्षा में भाग ले सकते हैं। इसके अंदर चार जी एस पेपर होते हैं- इसमें एक पेपर ऑप्शनल का होता है, इसके अंदर दो पेपर होते है और दूसरा पेपर निबंध का होता है। तीसरा पेपर इंग्लिश (अंग्रेजी )और क्षेत्रीय भाषा का पेपर होते हैं। पारंपरिक परीक्षा की तरह मेन पेपर भी क्वालीफाइंग पेपर होता है। यह परीक्षा पास करने के बाद ही उम्मीदवार को इंटरव्यू में जाने का मौका मिलता है।
      • इंटरव्यू  (साक्षात्कार) – मेरिट लिस्ट मुख्य परीक्षा के 7 पेपर और इंटरव्यू के दोनों अंकों को मिलाकर तैयार की जाती है। इंटरव्यू 275 अंकों का होता है। कुल मिलाकर 2025 अंक का पेपर होता है।

      यूपीएससी के एग्जाम के लिए करेंट अफेयर्स और जनरल अवेयरनेस का ज्ञान होना बहुत जरूरी है। 30 से 40 सवाल कम से कम करेंट अफेयर्स और जनरल नॉलेज के एक पेपर में आते हैं। इन सवालों की तैयारी के लिए हमें रोज़ाना समाचार और मैगज़ीन पढ़ना आवश्यक है।

      यूपीएससी में जॉब प्रोफाइल्स क्या हैं

      यूपीएससी सिविल सर्विसेज में 24 सेवाओं में जॉब मिलती हैं, जोकि इस प्रकार हैंः

      • भारतीय प्रशासनिक सेवा (IAS)
      • भारतीय पुलिस सेवा (IPS)
      • भारतीय वन सेवा (IFoS)
      • भारतीय विदेश सेवा (IFS)
      • भारतीय सूचना सेवा (IIS)
      • भारतीय डाक सेवा (IPoS)
      • भारतीय राजस्व सेवा (IRS)
      • भारतीय व्यापार सेवा (ITS)
      • रेलवे सुरक्षा बल (RPF)
      • पॉन्डीचेरी सिविल सेवा (PCS)
      • पॉन्डिचेरी पुलिस सेवा (PPS)
      • दिल्ली, अंडमान निकोबार आइलैंड्स सिविल सेवा (DANICS)
      • दिल्ली, अंडमान निकोबार आईलैंड्स, लक्षद्वीप, दमन दीव, दादर नागर हवेली पुलिस सेवा (DANIPS)
      • इंडियन ऑडिट एंड अकाउंट्स सर्विस (IAAS)
      • इंडियन सिविल अकाउंट्स सर्विस (ICAS)
      • इंडियन कॉर्पोरेट लॉ सर्विस (ICLS)
      • इंडियन डिफेंस एस्टेट सर्विस (IDES)
      • इंडियन डिफेंस अकाउंट्स सर्विस (IDAS)
      • इंडियन ऑर्डिनेंस फैक्ट्रीज सर्विस (IOFS)
      • इंडियन कम्युनिकेशन फाइनांस सर्विस (ICFS)
      • इंडियन रेलवे अकाउंट्स सर्विस (IRAS)
      • इंडियन रेलवे पर्सनल सर्विस (IRPS)
      • इंडियन रेलवे ट्रैफिक सर्विस (IRTS)
      • आर्म्ड फोर्सेस हेडक्वार्टर्स सिविल सर्विस (AFHCS).

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top