Current Affairs For India & Rajasthan | Notes for Govt Job Exams

दक्षिण चीन सागर में पूर्वी बेड़े की परिचालन तैनाती के एक भाग के रूप में, भारतीय नौसेना के जहाजों दिल्ली, शक्ति और किल्टन ने सिंगापुर की अपनी यात्रा पूरी की।

FavoriteLoadingAdd to favorites

भारतीय नौसेना के जहाज दिल्ली, शक्ति और किल्टन ने 06 से 09 मई 24 तक सिंगापुर का दौरा किया, जिसका उद्देश्य द्विपक्षीय बातचीत करना और आपसी हित और सहयोग के क्षेत्रों पर चर्चा करना और क्षेत्र में समुद्री सुरक्षा और स्थिरता को बढ़ाने की प्रतिबद्धता की पुष्टि करना था। यह यात्रा दक्षिण चीन सागर में भारतीय नौसेना के पूर्वी बेड़े की परिचालन तैनाती का हिस्सा है।

पूर्वी बेड़े के फ्लैग ऑफिसर कमांडिंग आर एडमिरल राजेश धनखड़ और जहाजों के कमांडिंग अधिकारियों ने सिंगापुर नौसेना मुख्यालय में सिंगापुर गणराज्य की नौसेना के फ्लीट कमांडर के साथ बातचीत की। इस यात्रा ने भारत और सिंगापुर दोनों की नौसेनाओं के बीच नौसैनिक सहयोग और अंतरसंचालनीयता बढ़ाने पर चर्चा का अवसर प्रदान किया। आईएनएस शक्ति पर एक डेक रिसेप्शन आयोजित किया गया था, जिसमें दोनों नौसेनाओं के कर्मियों और सिंगापुर में भारतीय प्रवासी और स्थानीय राजनयिक समुदाय को बातचीत करने का अवसर मिला, जिससे दोस्ती और पारस्परिक सम्मान के बंधन को आगे बढ़ाया गया।

समुद्री शिक्षा और आउटरीच के प्रति भारतीय नौसेना की प्रतिबद्धता के हिस्से के रूप में, स्थानीय स्कूली बच्चों को भारतीय जहाजों का दौरा करने के लिए आमंत्रित किया गया था। बच्चों को जहाजों का निर्देशित भ्रमण कराया गया, जहां उन्होंने नौसेना संचालन, भारत के समृद्ध समुद्री इतिहास और विरासत के साथ-साथ समुद्री सुरक्षा के महत्व के बारे में भी सीखा। इन इंटरैक्शन का उद्देश्य युवा पीढ़ी को प्रेरित करना और समुद्री मामलों की बेहतर समझ को बढ़ावा देना है। भारतीय नौसेना और सिंगापुर गणराज्य की नौसेना दोनों के कार्मिकों ने अन्य पेशेवर बातचीत के अलावा, क्रॉस-शिप विजिट और विषय वस्तु विशेषज्ञ एक्सचेंज (एसएमईई) भी किया।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top