Current Affairs For India & Rajasthan | Notes for Govt Job Exams

अंतर्राष्ट्रीय थैलेसीमिया दिवस

FavoriteLoadingAdd to favorites

केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव ने थैलेसीमिया से निपटने के लिए समय पर पता लगाने और रोकथाम के महत्व पर जोर दिया

“आरसीएच कार्यक्रम में अनिवार्य थैलेसीमिया परीक्षण को एकीकृत करके, थैलेसीमिया के बोझ को काफी कम किया जा सकता है”

जनता के बीच थैलेसीमिया पर व्यापक जागरूकता की महत्वपूर्ण आवश्यकता पर जोर दिया गया; एक जागरूकता वीडियो लॉन्च किया

स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय
अंतर्राष्ट्रीय थैलेसीमिया दिवस

केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव ने थैलेसीमिया से निपटने के लिए समय पर पता लगाने और रोकथाम के महत्व पर जोर दिया

“आरसीएच कार्यक्रम में अनिवार्य थैलेसीमिया परीक्षण को एकीकृत करके, थैलेसीमिया के बोझ को काफी कम किया जा सकता है”

जनता के बीच थैलेसीमिया पर व्यापक जागरूकता की महत्वपूर्ण आवश्यकता पर जोर दिया गया; एक जागरूकता वीडियो लॉन्च किया
पोस्ट किया गया: 08 मई 2024 3:42 अपराह्न पीआईबी दिल्ली द्वारा

 

स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के सचिव श्री अपूर्व चंद्रा ने बीमारी से निपटने के लिए थैलेसीमिया की समय पर पहचान और रोकथाम के महत्व पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि सही समय पर इसकी रोकथाम करके ही इस बीमारी के बोझ को कम किया जा सकता है। केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव आज यहां अंतर्राष्ट्रीय थैलेसीमिया दिवस के अवसर पर एक कार्यक्रम में बोल रहे थे।

इस अवसर पर बोलते हुए, केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव ने कहा, “थैलेसीमिया से निपटने के लिए समय पर पता लगाना और रोकथाम सबसे प्रभावी रणनीति है।” उन्होंने कहा कि देश में थैलेसीमिया के लगभग 1 लाख मरीज हैं, हर साल लगभग 10,000 नए मामले सामने आते हैं। उन्होंने स्क्रीनिंग के माध्यम से समय पर पता लगाकर सक्रिय हस्तक्षेप की तात्कालिकता पर जोर दिया।

श्री अपूर्व चंद्रा ने भी इस विषय पर व्यापक जागरूकता की महत्वपूर्ण आवश्यकता पर प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि “अभी भी बहुत से लोग इस बीमारी से अनजान हैं कि इसे कैसे रोका जा सकता है। यह जरूरी है कि इस क्षेत्र के सभी हितधारक थैलेसीमिया पर जागरूकता बढ़ाने के लिए एक राष्ट्रव्यापी अभियान में सहयोग करें। इस दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम के रूप में, उन्होंने थैलेसीमिया की प्रभावी रोकथाम के तरीकों और इष्टतम उपचार को बढ़ावा देने के लिए इंडियन एसोसिएशन ऑफ पीडियाट्रिक्स एंड थैलेसीमिक्स इंडिया के सहयोग से बनाया गया एक वीडियो लॉन्च किया।
(https://youtu.be/H__bidXcanE?si=-_87PEPxAdsPNaw1)।

केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव ने रोग की व्यापकता को कम करने के साधन के रूप में एनएचएम के तहत मौजूदा प्रजनन और बाल स्वास्थ्य (आरसीएच) कार्यक्रमों में अनिवार्य थैलेसीमिया परीक्षण को शामिल करने की भी वकालत की। उन्होंने कहा कि कुछ राज्यों ने इसे अपने सार्वजनिक स्वास्थ्य कार्यक्रमों और गतिविधियों में शामिल किया है; अन्य राज्यों से थैलेसीमिया के लिए स्क्रीनिंग और परीक्षण को शामिल करने और उसका विस्तार करने का आग्रह किया जाएगा।

थैलेसीमिया एक वंशानुगत रक्त विकार है जिसके कारण शरीर में सामान्य से कम हीमोग्लोबिन होता है। हर साल मनाया जाने वाला अंतर्राष्ट्रीय थैलेसीमिया दिवस बीमारी की रोकथाम के महत्व पर जोर देने, जागरूकता बढ़ाने, हितधारकों को संवेदनशील बनाने, शीघ्र पता लगाने को बढ़ावा देने और थैलेसीमिया से प्रभावित लोगों के लिए गुणवत्तापूर्ण देखभाल सुनिश्चित करने के लिए एक महत्वपूर्ण मंच के रूप में कार्य करता है। इस वर्ष की थीम, “जीवन को सशक्त बनाना, प्रगति को गले लगाना: सभी के लिए न्यायसंगत और सुलभ थैलेसीमिया उपचार,” व्यापक थैलेसीमिया देखभाल के लिए सार्वभौमिक पहुंच की दिशा में सामूहिक मिशन को समाहित करता है।

सुश्री आराधना पटनायक, एएस एवं एमडी (एनएचएम); डॉ. जी. वी. बसवराज, अध्यक्ष, भारतीय बाल चिकित्सा अकादमी; सुश्री शोभा तुली, सचिव, थैलेसीमिक्स इंडिया; इस अवसर पर आईएपी के पीएचओ चैप्टर के मानद सचिव डॉ. मानस कालरा और केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top